Skip to main content

CAAJ condemns sedition charges against senior journalist, intellectual and activist in Assam


January 15: 

This statement is in condemnation of the judicial harassment being meted out to senior Assamese Editor Mr. Manjit Mahanta, Sahitya Academy Awardee writer Hiren Gohain and farmers' leader Akhil Gogoi in a case of Sedition slapped upon them for participation in a peaceful protest against the Citizenship (Amendment) Bill in Guwahati.





On January 9, 2019, Latasil police registered a case against one of Assam's prominent scholar and intellectual Hiren GohainAkhil Gogoi, President of the Krishak Mukti Sangram Samiti (KMSS) and Manjit Mahanta, Convenor of the Forum against Citizenship Act Amendment Bill, under Sections 120(B) (“punishment of criminal conspiracy”), 121 (“waging or attempting to wage war, or abetting waging of war, against the Government”), 123 (“concealing with intent to facilitate design to wage war”), and 124(A) (“sedition”) of the Indian Penal Code.

On January 11, 2019, the Guwahati High Court granted bail to Mr. Manjit Mahanta and interim bail to Hiren Gohain and Akhil Gogoi against a surety of Rs. 5,000 each and fixed January 22, 2019 as the next date of hearing of the case.

The case was filed after Hiren Gohain, Akhil Gogoi and Manjit Mahanta attended a public rally organized by the Forum against Citizenship Act Amendment Bill in Latasil, Guwahati, on January 7, 2019, during which they expressed their views against the religion-based Citizenship (Amendment) Bill, 2016 and strongly opposed the passing of this piece of legislation

Despite their opposition to the Bill, the three human rights defenders have publicly stated that they are not against the Constitution of India, and are solely asking for equal constitutional protection for the people of Assam State. 

CAAJ is deeply concerned with the colonial era sedition law being imposed arbitrarily by the state upon anyone who dissents. In this case Mr, Mahanti is a senior TV journalist and Editor and Mr. Gohain has been awarded by the Academy of Letters for his intellectual contributions. Both are towering figures in their respective fields. 

Caaj demands immediate removal of sedition charges upon all of them and restore the democratic right to dissent and freedom of expression in the state.

Comments

Popular posts from this blog

ओडिशा: रेत माफिया के खिलाफ लिखने पर पत्रकार के ऊपर जानलेवा हमला

ओडिशा के बालासोर में एक उडि़या दैनिक के पत्रकार के ऊपर बुधवार की रात कुछ लोगों ने हमला कर के उन्‍हें बुरी तरह से जख्‍मी कर दिया, जब वे अपने घर से दफ्तर लौट रहे थे। पत्रकार ने हमलावरों की पहचान रेत माफिया के रूप में की है।   उडि़या के प्रतिष्ठित दैनिक समाज के पत्रकार  प्रताप पात्रा  के ऊपर बुधवार की रात नौ बजे धारदार हथियारों से हमला किया गया। उनके सिर, छाती और हाथ पर हमला किया गया लेकिन हेलमेट पहने होने के कारण उनकी जान बच गई, हालांकि हमले में हेलमेट टूट गया और सिर फट गया। हमलावर उनका मोबाइल फोन और सोने की चेन लेकर भाग गए। प्रताप ने कुछ दिन पहले बालासोर के रेत माफिया पर स्‍टोरी की थी। पुलिस के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से उन्‍हें धमकियां भी मिल रही थीं। प्रताप ने बाद में स्‍थानीय प्रेस को बताया कि वे हमलावरों को पहचानते हैं और उन्‍होंने उनके नाम की सूची पुलिस को सौंप दी। इस मामले में पुलिस ने कोई एफआइआर अब तक दर्ज नहीं की है लेकिन जांच जारी है।

Fourteen Journalists assaulted while covering anti-CAA protests till date! Here is the list

Amidst the on-going nationwide protest against CAA-NRC several journalist were attacked, intimidated and harassed by the police when they were doing the ground reporting. Ironically most of them come from the minority Muslim community. It shows the bias against the certain community from the state machinery. Several other photo and video journalists were also harassed in these protests by the mobs and protesters.  Here is the current list of the attacked journalists (11/12/19 - 21/12/19):

"मीडिया की घेराबंदी": उत्तर प्रदेश में 2017 से लेकर अब तक हुए मीडिया के दमन पर विस्तृत रिपोर्ट

  उत्‍तर प्रदेश में पांच साल में मारे गए 12 पत्रकार , कानूनी नोटिसों और मुकदमों की भरमार पत्रकारों पर हमले के विरुद्ध समिति (CAAJ) ने उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए पहले मतदान की पूर्व संध्‍या पर ‍बुधवार को चौंकाने वाले आंकड़े जारी किये हैं। अपनी रिपोर्ट '' मीडिया की घेराबंदी '' में समिति ने उद्घाटन किया है कि प्रदेश में पिछले पांच साल में पत्रकारों पर हमले के कुल 138 मामले दर्ज किये गये जिनमें पचहत्‍तर फीसद से ज्‍यादा मामले 2020 और 2021 के दौरान कोरोनाकाल में हुए। समिति के मुताबिक 2017 से लेकर जनवरी 2022 के बीच उत्‍तर प्रदेश में कुल 12 पत्रकारों की हत्‍या हुई है। ये मामले वास्‍तविक संख्‍या से काफी कम हो सकते हैं। इनमें भी जो मामले ज़मीनी स्‍तर पर जांच जा सके हैं उन्‍हीं का विवरण रिपोर्ट में दर्ज है। जिनके विवरण दर्ज नहीं हैं उनको रिपोर्ट में जोड़े जाने का आधार मीडिया और सोशल मीडिया में आयी सूचनाएं हैं।   हमले की प्रकृति हत्‍या शारीरिक हमला मुकदमा/गिरफ्तारी धमकी/हिरासत/जासूसी कुल वर्ष